Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 1 min read

चाह : शहीद कहलाने की

कल भगत सिंह की जीवनी पढ़ रहा था तो दिमाग में आया की आखिर कैसे कोई वतन की खातिर इतने जुल्म सह सकता है और कैसे कोई वतन की लिए अपने प्राणों तक की बाजी भी लगाने को तैयार हो सकता है।आजकल तो हम जब तक बात स्वयं से जुडी हुयी न हो तब तक हम उस मुद्दे में नही पड़ना चाहते। वाकई वो कोई आम इंसान तो नही थे।जैसे जैसे जीवनी पढ़ रहा था वेसा ही दृश्य मेरी आँखों के सामने चल रहा था।मन कर रहा था की काश मैं भी उस दौर में होता और देश के लिए कुछ कर पाता पर क्या इतना आसान था जितना पढ़ने में लग रहा था।आज के दौर में अगर हमे छोटी सी चोट भी लग जाये तो तुरन्त डॉक्टर के पास भागते है तो क्या उस समय में भगत सिंह और बाकि वतन के सुरमो ने जो असीमित जुल्म सहे वह तो कोई चमत्कारी लोग ही थे।मन कर रहा था की उन्हें सच्चे दिल से सलाम करू। जहन में आया को अगर देश के लिए कुछ करना ही है तो वो तो हम कभी भी कर सकते है इसलिए मैंने सोचा है की जब भी मुझे मौका मिलेगा तो अपने प्राणों की बाजी लगाने से भी नही कताराउंगा बस ईश्वर मेरा साहस और शक्ति बनाये रखे ।

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
133 Views
You may also like:
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
कलम की ताकत
Seema gupta ( bloger) Gupta
बात क्या है जो नयन बहने लगे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
वो सहरा में भी हमें सायबान देता है
Anis Shah
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
Writing Challenge- दोस्ती (Friendship)
Sahityapedia
दो पँक्ति दिल की
N.ksahu0007@writer
✍️तन्हा ही जाना है✍️
'अशांत' शेखर
दर्द ए हया को दर्द से संभाला जाएगा
कवि दीपक बवेजा
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
*युगों-युगों से सदा रहे हम दोनों जीवन-साथी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
यारों की आवारगी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
" समर्पित पति ”
Dr Meenu Poonia
माँ गंगा
Anamika Singh
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
पथरी का आयुर्वेदिक उपचार
लक्ष्मी सिंह
सिर्फ एक रंगे मुहब्बत के सिवा
shabina. Naaz
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
समय का विशिष्ट कवि
Shekhar Chandra Mitra
घूँघट की आड़
VINOD KUMAR CHAUHAN
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
पेड़
Sushil chauhan
Loading...