Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 6, 2022 · 1 min read

चाह इंसानों की

हम इंसानों की चाहत
होती सिवा एक हमारी
कितना भी निस्तार मिले
फिर भी और चाहते हैं हम ।

हम इंसाने दिन-प्रतिदिन
होते जा रहे ही ए-काहिल
भव ने बहुत सी प्रसार की
इंसानों ने इस विज्ञान से ही ।

हम इंसाने तो हर हाल में
शोधते रहते सुकून सतत
आराम के चलते ही हम
अक्सर अपनाते त्रुटिपंथ ।

विज्ञान ने हम इंसानों को
दिया बहुमूल्य वरदान हमे
फिर भी हम मनुजों तो यहां
चाहते है आराम ही आराम ।

142 Views
You may also like:
जिन्दगी को साज दे रहा है।
Taj Mohammad
केंचुआ
Buddha Prakash
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
✍️इश्क़ और जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
मां-बाप
Taj Mohammad
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
जिन्दगी एक दरिया है
Anamika Singh
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
✍️आव्हान✍️
'अशांत' शेखर
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️नशा और शौक✍️
'अशांत' शेखर
ऐ काश, ऐसा हो।
Taj Mohammad
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अच्छा लगता है।
Taj Mohammad
✍️डर काहे का..!✍️
'अशांत' शेखर
महावर
Dr. Sunita Singh
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
अभिलाषा
Anamika Singh
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
*"चित्रगुप्त की परेशानी"*
Shashi kala vyas
दर्शन शास्त्र के ज्ञाता, अतीत के महापुरुष
Mahender Singh Hans
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
*खाट बिछाई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr.Alpa Amin
Loading...