Aug 31, 2016 · 1 min read

चाहिए अर्जुन की नज़र

लक्ष्य पाने के लिए
चाहिए अर्जुन की नज़र
नही होगा भटकाना
ये मन इधर उधर
सुन आवाज मन की
होगा निशाना साधना
न भटकना पथ से कहीं
रखना समर्पित भावना
फिर रोक सकता ही नहीं
कोई सफलता पाने से
तीर जाकर के लगेगा
सीधा ही ठिकाने से
इक बात मगर तुमको
रखनी होगी ये याद
ये हार जीत दोनों ही
हैं जीवन की सौगात
क्योंकि ऐसा ही होता है
ये ज़िन्दगी का सफर
डॉ अर्चना गुप्ता

133 Views
You may also like:
सच
अंजनीत निज्जर
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
** यकीन **
Dr. Alpa H.
🙏महागौरी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
"पिता"
Dr. Alpa H.
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Anis Shah
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
बेबसी
Varsha Chaurasiya
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
Loading...