Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 26, 2016 · 1 min read

मत चल मानुष ! उल्टी चालें

ताटंक छंद

मत चल मानुष ! उल्टी चालें
एक दिवस पछताएगा ।
समय निकलने पर हाथों से
वापस कभी न आएगा ।
जो सच्चे – सीधे होते हैं
वे आगे बढ़ पाते हैं ,
टेढ़ी चालें चलने वाले
खंदक में गिर जाते हैं ।

डॉ रीता
आया नगर , नई दिल्ली- 47

1 Like · 259 Views
You may also like:
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️जेरो-ओ-जबर हो गये✍️
"अशांत" शेखर
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
बेरूखी
अनामिका सिंह
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुरज और चाँद
अनामिका सिंह
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
खेलता ख़ुद आग से है
Shivkumar Bilagrami
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
टूटे बहुत है हम
D.k Math
लड़ते रहो
Vivek Pandey
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
✍️सिर्फ मिसाले जिंदा रहेगी...!✍️
"अशांत" शेखर
यह जिन्दगी क्या चाहती है
अनामिका सिंह
वोट भी तो दिल है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी छवि
अनामिका सिंह
हम भी हैं महफ़िल में।
Taj Mohammad
✍️बोन्साई✍️
"अशांत" शेखर
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
दूध होता है लाजवाब
Buddha Prakash
राम
Saraswati Bajpai
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️बचपन था जादुई चिराग✍️
"अशांत" शेखर
✍️ज़ख्मो का स्वाद✍️
"अशांत" शेखर
Loading...