Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

“चार दिन की चांदनी है दोस्तों।

“चार दिन की चांदनी है दोस्तों।
ज़िन्दगी दरअस्ल काली रात है।।
बस क़लम को रोशनाई चाहिए।
ख़ून मिल जाए तो फिर क्या बात है।।”

👌प्रणय प्रभात👌

1 Like · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
शायद ये सांसे सिसक रही है
शायद ये सांसे सिसक रही है
Ram Krishan Rastogi
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
एहतराम करते है।
एहतराम करते है।
Taj Mohammad
औरों की तरह हर्फ़ नहीं हैं अपना;
औरों की तरह हर्फ़ नहीं हैं अपना;
manjula chauhan
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
-- कैसा बुजुर्ग --
-- कैसा बुजुर्ग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
लोकतंत्र में तानाशाही
लोकतंत्र में तानाशाही
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"बेताबियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
मुंडा तेनू फाॅलो करदा
मुंडा तेनू फाॅलो करदा
Swami Ganganiya
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
बाँध लू तुम्हें......
बाँध लू तुम्हें......
Dr Manju Saini
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ चिंतनीय स्थिति...
■ चिंतनीय स्थिति...
*Author प्रणय प्रभात*
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रीति के दोहे, भाग-3
प्रीति के दोहे, भाग-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बारिश की बौछार
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
खद्योत हैं
खद्योत हैं
Sanjay ' शून्य'
बचपन बेटी रूप में
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
महंगाई के आग
महंगाई के आग
Shekhar Chandra Mitra
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
मेरी जन्नत
मेरी जन्नत
Satish Srijan
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
"देश भक्ति गीत"
Slok maurya "umang"
ख़्वाब
ख़्वाब
Monika Verma
"महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै"
MSW Sunil SainiCENA
Loading...