Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 21, 2021 · 1 min read

“चाय दिवस की शुभकमनाये”

हाँ मुझे चाय सुकुन थी
बचपन मे जब परीक्षा होती थी
तब चाय ही उन सर्द रातो का सहारा होती थी

हाँ मुझे चाय सुकुन देती है
आज भी जब दिमागी तौर पर थक जाती हूँ
तब चाय ही सहारा होती है

हाँ मुझे चाय सुकुन देती है
बहुत किस्से है चाय के
बहुत बाते है चाय पर
कितनी बया करे
हमारी तो ज़िंदगी है चाय पर
-सुरभी

1 Like · 198 Views
You may also like:
पावन पवित्र धाम....
Dr. Alpa H. Amin
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H. Amin
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
कैसी भी हो शराब।
Taj Mohammad
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
सुरज दादा
Anamika Singh
पिता का पता
श्री रमण
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
दूध होता है लाजवाब
Buddha Prakash
Loading...