Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2017 · 1 min read

चाँद

ईद और करवाचौथ पर
रहता है चाँद का जलवा।
बाकियों दिन वह घटता –
बढ़ाता रहे, किसे है परवाह।
चाँद
जिसे निहारने के लिए
साल में दो बार,
दो सम्प्रदाय रहते हैं बेताब से।
कब दिखे चांद, जो राहत मिले
दिन-भर के उपवास से।
-लक्ष्मी सिंह

594 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक पराई नार को 💃🏻
एक पराई नार को 💃🏻
Yash mehra
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
कवि दीपक बवेजा
#आज_का_संदेश
#आज_का_संदेश
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
निशां बाकी हैं।
निशां बाकी हैं।
Taj Mohammad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
आदमी की बात
आदमी की बात
Shekhar Chandra Mitra
वर्तमान से वक्त बचा लो [पंचम भाग ]
वर्तमान से वक्त बचा लो [पंचम भाग ]
AJAY AMITABH SUMAN
सहरा से नदी मिल गई
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
जाने  कैसे दौर से   गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बावरी बातें
बावरी बातें
Rashmi Sanjay
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
संघर्ष की शुरुआत / लवकुश यादव
संघर्ष की शुरुआत / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
परवरिश करने वाले को एहसास है ,
परवरिश करने वाले को एहसास है ,
Buddha Prakash
सवालिया जिंदगी
सवालिया जिंदगी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
ईमान से बसर
ईमान से बसर
Satish Srijan
श्री गणेशाय नमः
श्री गणेशाय नमः
जगदीश लववंशी
जहरीला साप
जहरीला साप
rahul ganvir
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐Prodigy Love-36💐
💐Prodigy Love-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
कुछ लम्हें ऐसे गुज़रे
कुछ लम्हें ऐसे गुज़रे
Dr fauzia Naseem shad
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वफ़ा मानते रहे
वफ़ा मानते रहे
Dr. Sunita Singh
तुम्हें ये आदत सुधारनी है।
तुम्हें ये आदत सुधारनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...