Oct 7, 2016 · 1 min read

चाँद यूँ कहने लगा

देख चॉद गगन से मुझे यूँ कहने लगा
इशारे इशारों में ही मुझे बुलाने लगा
आ जाओ अब छोड़ कर धरती तुम
कह कर चाँद इतना घूरने यूँ ही लगा

स्‍वप्‍न मेरे पानी के बुलबुलें जैसे ही हैं
तेरी नैनों के तीर से घायल हो जाते है
मेरे साथ तारों के बीच जा छुपा चाँद
रूप आज चाँद से मेरा निखर गया है

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 226 Views
You may also like:
कामयाबी
डी. के. निवातिया
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
धुँध
Rekha Drolia
सोंच समझ....
Dr. Alpa H.
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
ऐ वतन!
Anamika Singh
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
चाहत
Lohit Tamta
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
Crumbling Wall
Manisha Manjari
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H.
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
पापा
Kanchan Khanna
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Mamta Rani
Loading...