Sep 9, 2016 · 1 min read

चाँद फिर

चाँद फ़िर बढ़ते-बढ़ते घट गया है
सफ़र भी मुख्त्सर था कट गया है
दरोदीवार क्यों सूने हैं दिल के
कोई साया यहाँ से हट गया है
जिसे छोड़ आए थे हम बरसों पहले
वो ग़म फ़िर हमसे आके लिपट गया है
हुई नजरेइनायत जबसे उनकी
कुहासा सब जेहन का छंट गया है
उगे हर जिस्म पर कांटे ही कांटे
लिबास इंसानियत का फट गया है
वफ़ा की लाश कांधे पर उठाकर
वो शायद आज फ़िर मरघट गया है
“चिराग़”उनका जहां उनको मुबारक़
यहाँ से अपना तो जी उचट गया है

175 Views
You may also like:
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
$$पिता$$
दिनेश एल० "जैहिंद"
सीख
Pakhi Jain
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H.
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हे गुरू।
Anamika Singh
मतदान का दौर
Anamika Singh
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
मेरा बचपन
Ankita Patel
विसाले यार
Taj Mohammad
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
Loading...