Oct 6, 2021 · 1 min read

चाँद के ओठ पे मुहब्बत का इतिहास

चाँद के ओठ पे मुहब्बत का इतिहास
हर हुस्न के आतिश को लगा दिया आतिश।
आज चाँद चूमें चलो चाँदनी के पास चलें।
इस चाँद के माथे पे लिखें सारे गुनाह के कर्म।
अब हर मुस्कुराहट में आओ अट्टहास करें।
अपनी म्ुाहब्बत बने पाक व परवान चढ़े
ऐसा करते रहें और ऐसा ही हर साँस करें।
इस रात के आगोश में सिहरें व सिमट जायें हम
आओ इस चाँद और चाँदनी का विश्वास करें।
इतना शीतल व सुखद चाँदनी का हर कतरा
चाँद के ओठ पर अपना तथा इतिहास लिखें।
पिघला के जिस्म हम अपना हर समुन्दर को दें
आओ इस शीत की उष्णता का अहसास करें।
खामोश रहें हम मुहब्बत हमारा होवे मुखर
बाँट आयें तथा हर कयामत तलक सहवास करें।

1 Like · 93 Views
You may also like:
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
वेवफा प्यार
Anamika Singh
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
बाबू जी
Anoop Sonsi
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर रोज योग करो
Krishan Singh
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
औरतें
Kanchan Khanna
शिव शम्भु
Anamika Singh
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
Loading...