Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 14, 2016 · 1 min read

चाँद की रखता तो वो है चाहत!

रदीफ़ .नही है क्या!

हो गया चुप बोलता नही है क्या
राज दिल के खोलता नही है क्या।।

थाम लेता एक दफा अगर दिल से
हाथ फिर वो छोड़ता नही है क्या।।

जाम आँखों से ही पिलाता पर
बहकने से रोकता नही है क्या।।

चाँद की रखता तो है वो चाहत
आसमां में खोजता नही है क्या।।

टूट तो उनका गया है दिल मगर
ये हुआ क्यों सोचता नही है क्या ।।

“दिनेश”

184 Views
You may also like:
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
राजनीति ओछी है लोकतंत्र आहत हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️अहज़ान✍️
"अशांत" शेखर
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
आईना और वक्त
बिमल
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
*खिलता कमल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सास-बहू के झगड़े और मनोविज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
उसूल
Ray's Gupta
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️बुलडोझर✍️
"अशांत" शेखर
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr. Alpa H. Amin
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
गधा
Buddha Prakash
✍️आत्मपरीक्षण✍️
"अशांत" शेखर
Loading...