Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Jun 1, 2022 · 2 min read

चल-चल रे मन

चल – चल रे मन
शहर से अपने गाँव में।
यह शहर लगे है हमें
अजनबी सा डेरा।
यहाँ कोई नहीं है तेरा ,
सब करते रहते है लोग यहाँ
अपने में ही मेरा, मेरा।

चल-चल रे मन
शहर से अपने गाँव में।
जहाँ शुद्ध हवा ने अपनी
मीठी – मीठी खुशबू
चारों तरफ है बिखेरा।
इस शहर में क्या रखा है।
यहाँ तो हवा में भी
जहर घुला हुआ है।
प्रदूषण ने डाल रखा है
शहर में अपना डेरा।

चल – चल रे मन
शहर से अपने गाँव में
जहाँ रोज सुबह चिड़ियाँ जगाती है।
रून – झुन करती बेलों की घंटी,
सुबह – सुबह पगडंडी से होकर
खेतों की तरफ जब जाती है
कानों में यह स्वर कितनी सुंदर भांति है।
शहर में तो गाड़ियों का शोर है।
चारों तरफ से इस शोर ने
शहर को घेर रखा है।
इस कर्कश स्वर से कान बेचारा
हर रोज गुजरता है।

चल – चल रे मन
शहर से अपने गाँव में
जहाँ कण-कण में
प्यार भरा हुआ है।
जहाँ की गलियों में
रिशतों का मीठास भरा हुआ है।
ले चल मुझे उस गाँव के छाँव में।
यह शहर कहाँ किसी का रिश्ते का,
सम्मान करता है।
सब अपने ही धुन में रहते है।
सब बने रहते मेहमान यहाँ।

चल चल रे मन
शहर से अपने गाँव में।
उस गाँव में लेकर चल मुझको,
जहाँ सब मिलकर आपस मे
सुख- दुख की बातें करते हैं।
एक-दुसरे से दर्द बाँट कर
मन अपना हल्का करते है।
इस शहर में क्या रखा है।
जहाँ कोई नहीं किसी से बात करता है।
एक छत के नीचे रहकर भी
जहाँ कोई नही किसी से मिलता है।
बच्चे भी यहाँ माँ-बाप के,
प्यार के लिए तरस जाते है।
सब अपनी ही धुन में
यहाँ जीवन काट रहे है।

चल चल रे मन
शहर से अपने गाँव में।
जहाँ खुला आसमान हो अपना,
सुरज अपना हो चाँद हो अपना।
जिसके तले हम बैठे रहे
घंटो भर सकुन की छाँव में।
इस शहर में सकुन का
कहाँ छाँव मिलता है।
सब भाग रहे है सपनों के पीछे,
कहाँ कोई सकुन से रहता है।
सब मशीन बनकर सपनों के,
पीछे भाग रहे है।

चल-चल रे मन
शहर से अपने गाँव में
चल-चल रे मन
फिर से एकबार
उस प्यार के छाँव में।
जहाँ सब अपना रहते है,
ले चल मुझे उस ठाँव में,
चल-चल रे मन
उस गाँव में।

~ अनामिका

3 Likes · 2 Comments · 131 Views
You may also like:
दर्दों ने घेरा।
Taj Mohammad
खुशियों का मोल
Dr fauzia Naseem shad
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राष्ट्रीय ध्वज का इतिहास
Ram Krishan Rastogi
मन की बात
Rashmi Sanjay
मुकम्मल जहां
Seema 'Tu haina'
'नटखट नटवर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
गीत
Kanchan Khanna
भारत माँ पे अर्पित कर दूँ
Swami Ganganiya
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
'अशांत' शेखर
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
'अशांत' शेखर
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
The moon descended into the lake.
Manisha Manjari
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
हमारी जां।
Taj Mohammad
'ख़त'
Godambari Negi
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
मालूम था।
Taj Mohammad
एक जवानी थी
Varun Singh Gautam
नया चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
देखते देखते
shabina. Naaz
Loading...