Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

🌹प्रेम कौतुक-200🌹

चलो दिल चलते हैं ज़माने की सैर पर,
इश्क़ के इम्तिहान में किस किस की ख़ैर है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
68 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
शक्कर में ही घोलिए,
शक्कर में ही घोलिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-273💐
💐प्रेम कौतुक-273💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
होली (होली गीत)
होली (होली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मौनता  विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
मौनता विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
DrLakshman Jha Parimal
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
नींद
नींद
Diwakar Mahto
*चित्र में मुस्कान-नकली, प्यार जाना चाहिए 【हिंदी गजल/ गीतिका
*चित्र में मुस्कान-नकली, प्यार जाना चाहिए 【हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
दिल में हमारे
दिल में हमारे
Dr fauzia Naseem shad
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
लगाव
लगाव
Rajni kapoor
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
मित्र भाग्य बन जाता है,
मित्र भाग्य बन जाता है,
Buddha Prakash
करें आराधना मां की, आ गए नौ दिन शक्ति के।
करें आराधना मां की, आ गए नौ दिन शक्ति के।
umesh mehra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
वैभव बेख़बर
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
■ आज की सीख...
■ आज की सीख...
*Author प्रणय प्रभात*
I don't care for either person like or dislikes me
I don't care for either person like or dislikes me
Ankita Patel
ज़हर ही ज़हर है और जीना भी है,
ज़हर ही ज़हर है और जीना भी है,
Dr. Rajiv
रात भर इक चांद का साया रहा।
रात भर इक चांद का साया रहा।
Surinder blackpen
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
"मेरी दुनिया"
Dr Meenu Poonia
कलाम को सलाम
कलाम को सलाम
Satish Srijan
समझा होता अगर हमको
समझा होता अगर हमको
gurudeenverma198
बाल-कविता: 'मम्मी-पापा'
बाल-कविता: 'मम्मी-पापा'
आर.एस. 'प्रीतम'
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...