Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2021 · 2 min read

*** ” चलना है मगर… संभल कर….!!! ” ***

*** चल उठ जीवन पथ के राही ,
कुछ कदम बढ़ा ;
भोर हो चला है कर ले कुछ हलचल ।
उदित किरण की लाली (रवि किरण ) संग ,
बहती शीतल बयार संग ,
आ कर कुछ नई पहल ।
ओ राही चल , मगर आहिस्ता आहिस्ता चल ;
राहों पर कोई भटकाव न हो ,
चल कुछ थम के चल ।
राहों पर अपनी नज़रें टीका के चल ,
मोड़ हो राहों में.. कोई बात नहीं ,
तंग हो कोई ग़म न कर ;
लेकिन..कदम अपनी फिसले न ,
ऐसी कोई कोशिश न कर ।

*** राहें दुर्गम हों , पथ चाहे अगम हों ;
उसे सुगम करता चल ।
राहों में कुछ मुसिबतें आयेंगे ,
तूझे कुछ भरमायेंगें ;
उसे सरलता से हल करता चल ।
आज और कल की बात न कर ,
हो सके तो अभी चलने की , कुछ कर पहल ।
चाल में तेरी , मौजों की रवानी हो ;
बढ़ते कदमों की पांवों में ,
हौसले की कोई निशानी हो ।
रमता चल या फिर बहता चल , ओ राही….! ;
मगर तू थोड़ा संयम से ,
संभल के चलता चल ।

*** पवन की चाल में कहीं बहक न जाना ,
फूलों की महक में कहीं बिखर न जाना ;
घटाओं की बारिश में तुम भिग जाना ,
मगर राहों पर फिसलने की कोशिश न करना ।
हो सके राह में कहीं दुर्गम पहाड़ी मिलेंगे ,
अदम्य हौसला साथ ले कर चल ।
टेढ़े-मेढ़े या ऊंचे-नीचे कुछ ढाल मिलेंगे ,
शक्त पांवों के निशान गढ़ता चल ।
फूलों की पथ में ,
अनचाहे कांटों के कुछ जाल भी मिलेंगे ;
मगर तू ज़रा सतर्क हो कर चल ।
ये तुम्हारी कदमों के चाप ,
है ये तुम्हारी आकृति के अद्वितीय छाप ।
होगा ये एक अनमोल निशान ,
तेरे कोई अनुगामी के लिए ।
तू चल अथक ,
तू बन प्रतीक एक हम राही के लिए ।
आज और कल की तू बात न कर ,
हो सके तो अभी चल ।
एक-एक कदम चल , कुछ थम के चल ,
मगर तू संभल कर चल ।
एक-एक कदम चल , कुछ थम के चल ,
मगर तू ज़रा संभल कर चल ।।

********************∆∆∆******************

बी पी पटेल
बिलासपुर (छ.ग.)
०२ / ०६ / २०२१

338 Views
You may also like:
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
✍️✍️रूपया✍️✍️
'अशांत' शेखर
The flowing clouds
Buddha Prakash
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
✍️अपने .......
Vaishnavi Gupta
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
जुनून।
Taj Mohammad
बंदर भैया
Buddha Prakash
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नदियों का दर्द
Anamika Singh
बड़ी बेवफ़ा थी शाम .......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
डरता हूं
dks.lhp
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
**साधुतायां निष्ठा**
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
✍️कथासत्य✍️
'अशांत' शेखर
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
*कॉंवड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
नए नए जज़्बात दे रहा है।
Taj Mohammad
उसूल
Ray's Gupta
टूटता तारा
Anamika Singh
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
परी
Alok Saxena
Loading...