Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 14, 2022 · 1 min read

चलना ही पड़ेगा

ये ज़िन्दगी सफर है तो चलना ही पड़ेगा
ग़र है वफाई आग तो जलना ही पड़ेगा

कितने रुके थके नज़रअंदाज उसे कर
आगे सफर में हमको निकलना ही पड़ेगा

वाकिफ़ भी होके मौत से होना न ग़मज़दा
मिलना है ज़िन्दगी तो विछड़ना ही पड़ेगा

होती नही हैं गलतियाँ मजबूरियाँ सभी
जो मुँह में गया उसको निगलना पड़ेगा

निकलें हैं ‘महज़’ राह में मंजिल के वास्ते
साँचें में वक्त के हमें ढ़लना ही पड़ेगा

3 Likes · 1 Comment · 174 Views
You may also like:
बयां सारा हम हाले दिल करेंगे।
Taj Mohammad
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
लाख मिन्नते मांगी ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
'अशांत' शेखर
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
तेरे वजूद को।
Taj Mohammad
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कह न पाई मै,बस सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
बुआ आई
राजेश 'ललित'
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार
Ram Krishan Rastogi
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
गम तारी है।
Taj Mohammad
नफरत है मुझे
shabina. Naaz
poem
पंकज ललितपुर
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
✍️अहज़ान✍️
'अशांत' शेखर
अजब-गज़ब शौक होते है।
Taj Mohammad
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
Loading...