Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2021 · 2 min read

“चरित्र और चाय”

“चरित्र और चाय”
# # # # # # # #

सरल शब्दों में समझाऊं आज मैं ,
चरित्र निर्माण की कहानी।
मानव चरित्र भी होती है,
एक प्याली चाय की दीवानी ।
अंग्रेजी के टी के उच्चारण में हैं_
तीन अक्षर टी, इ और ए।
टी से थाॅट समझो अर्थात विचार,
यही है ऊर्जा की चाबी।
जो हमे काम करने के लिए,
प्रेरित करती है,धकेलती है।
दूसरा अक्षर इ का मतलब इमोशन,
ये इमोशन या मनोभाव,
विचार से ही पैदा होती हैं,
और दिल में ढेर सारे अरमान जगाती हैं।
फिर तीसरा अक्षर ए अर्थात एक्शन आया,
एक्शन या क्रिया से ही हमारा वर्तमान बनता,
जो कि मनोभाव के इशारे पर है नाचता।
यदि जीवन के ये तीनों पहलु,
विचार, मनोभाव और क्रिया को,
एक साथ मिलाकर समुच्चय हम बनाते ,
तो खुद-ब-खुद मनुष्य का चरित्र बन जाते।
तो हो गया न आदमी का चरित्र भी,
एक चाय( टी इ ए) का प्याला।

रोगी मानव यदि भविष्य में,
पहलवान बनने का विचार ठान ले ,
तो भविष्य में जरूर पहलवान बन जाए।
और एक मोटा ताजा पहलवान भी,
हो जाए यदि रुग्ण विचारों से ग्रसित,
फिर स्थूलकाया भी हो जाएगी उसकी,
जीर्ण-शीर्ण परिवर्तित।
यदि हम विचाररूपी ऊर्जा के इस खेल को,
समझ पाए तो वो ऊर्जा का जनक,
सूरज करता है इस जीवन को उजियारा ,
और जो मूढ़ नहीं समझ पाया इस रहस्य को,
उसके लिए रवि बन जाता एक दहकता अंगारा।
चरित्र की गाथा समझाने का,
मकसद पूरा हो गया हमारा।
यदि अब भी समझ में नहीं आया ,
तो फिर से पियो एक कप चाय का प्याला,
और बारम्बार पढ़ो ये जीवन का इशारा।
समझो मानव चरित्र और चाय का इशारा।।

मौलिक एवं स्वरचित

© *मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १३/०६/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
TEA =चाय
#######
T= Thought =विचार
E= Emotion=मनोभाव (संवेग)
A =Action =क्रिया
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Language: Hindi
Tag: कविता
16 Likes · 5 Comments · 1630 Views
You may also like:
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (गीतिका)*
Ravi Prakash
डर होता है
Abhishek Pandey Abhi
*"याचना"*
Shashi kala vyas
मैं ही मैं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुहब्बत का मसीहा
Shekhar Chandra Mitra
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
आज के ख़्वाब ने मुझसे पूछा
Vivek Pandey
प्रार्थना
Anamika Singh
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
Ram Krishan Rastogi
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
💥प्रेम की राह पर-69💥
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
saliqe se hawaon mein jo khushbu ghol sakte hain
Muhammad Asif Ali
.✍️आशियाना✍️
'अशांत' शेखर
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल की चाहत
कवि दीपक बवेजा
केंचुआ
Buddha Prakash
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अजीज
shabina. Naaz
^^अलविदा ^^
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...