Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2021 · 2 min read

“चरित्र और चाय”

“चरित्र और चाय”
# # # # # # # #

सरल शब्दों में समझाऊं आज मैं ,
चरित्र निर्माण की कहानी।
मानव चरित्र भी होती है,
एक प्याली चाय की दीवानी ।
अंग्रेजी के टी के उच्चारण में हैं_
तीन अक्षर टी, इ और ए।
टी से थाॅट समझो अर्थात विचार,
यही है ऊर्जा की चाबी।
जो हमे काम करने के लिए,
प्रेरित करती है,धकेलती है।
दूसरा अक्षर इ का मतलब इमोशन,
ये इमोशन या मनोभाव,
विचार से ही पैदा होती हैं,
और दिल में ढेर सारे अरमान जगाती हैं।
फिर तीसरा अक्षर ए अर्थात एक्शन आया,
एक्शन या क्रिया से ही हमारा वर्तमान बनता,
जो कि मनोभाव के इशारे पर है नाचता।
यदि जीवन के ये तीनों पहलु,
विचार, मनोभाव और क्रिया को,
एक साथ मिलाकर समुच्चय हम बनाते ,
तो खुद-ब-खुद मनुष्य का चरित्र बन जाते।
तो हो गया न आदमी का चरित्र भी,
एक चाय( टी इ ए) का प्याला।

रोगी मानव यदि भविष्य में,
पहलवान बनने का विचार ठान ले ,
तो भविष्य में जरूर पहलवान बन जाए।
और एक मोटा ताजा पहलवान भी,
हो जाए यदि रुग्ण विचारों से ग्रसित,
फिर स्थूलकाया भी हो जाएगी उसकी,
जीर्ण-शीर्ण परिवर्तित।
यदि हम विचाररूपी ऊर्जा के इस खेल को,
समझ पाए तो वो ऊर्जा का जनक,
सूरज करता है इस जीवन को उजियारा ,
और जो मूढ़ नहीं समझ पाया इस रहस्य को,
उसके लिए रवि बन जाता एक दहकता अंगारा।
चरित्र की गाथा समझाने का,
मकसद पूरा हो गया हमारा।
यदि अब भी समझ में नहीं आया ,
तो फिर से पियो एक कप चाय का प्याला,
और बारम्बार पढ़ो ये जीवन का इशारा।
समझो मानव चरित्र और चाय का इशारा।।

मौलिक एवं स्वरचित

© *मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १३/०६/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
TEA =चाय
#######
T= Thought =विचार
E= Emotion=मनोभाव (संवेग)
A =Action =क्रिया
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

16 Likes · 5 Comments · 1515 Views
You may also like:
प्रेम गीत
Harshvardhan "आवारा"
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
💐दुर्गुणं-दुराचार: व्यसनं आदि दुष्ट: व्यक्ति: सदृश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
सूरज काका
Dr Archana Gupta
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
"अशांत" शेखर
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
✍️मी फिनिक्स...!✍️
"अशांत" शेखर
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
शब्दों से परे
Mahendra Rai
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
मन का पाखी…
Rekha Drolia
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
बन कर शबनम।
Taj Mohammad
तेरी सूरत
DESH RAJ
क्या करे
shabina. Naaz
Loading...