Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2022 · 1 min read

चराग़ों को जलाने से

इनके धूएं से तेरे ताक़ तो काले होंगे
पर , चराग़ों को जलाने से उजाले होंगे

फ़िक्रे दुनिया में मिटाया है जिन्होंने ख़ुद को
ऐसे लोगों के ख़यालात निराले होंगे

हाथ दोनों थे कटे फिर भी वो कांटों पे चला
उसने कांटे बड़ी मुश्किल से निकाले होंगे

साधकर मौन जो बैठा है नदी के तट पर
उसके पैरों ने कई घाट खंगाले होंगे

एक से एक बड़े दर्द हैं तेरे दिल में
कैसे ये दर्द तेरे दिल ने संभाले होंगे

… शिवकुमार बिलगरामी

9 Likes · 12 Comments · 302 Views
You may also like:
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
★HAPPY GANESH CHATURTHI★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
लिपस्टिक की दुहाई
Kaur Surinder
बिन हमारे तुम एक दिन
gurudeenverma198
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
ख़तरे की घंटी
Shekhar Chandra Mitra
बहुत अच्छे लगते ( गीतिका )
Dr. Sunita Singh
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
ख़ुशी
Alok Saxena
"कलयुग का मानस"
Dr Meenu Poonia
कभी गरीबी की गलियों से गुजरो
कवि दीपक बवेजा
*अटल जी की चौथी पुण्यतिथि पर भावपूर्ण श्रद्धांजलि*
Author Dr. Neeru Mohan
✍️गुलिस्ताँ सरज़मी के बंदिश में है✍️
'अशांत' शेखर
"मेरे पापा "
Usha Sharma
ज़ाफ़रानी
Anoop 'Samar'
वो आज मिला है खुलकर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प कमल ,...
Subhash Singhai
घर का ठूठ2
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहीं कोई भगवान नहीं है//वियोगगीत
Shiva Awasthi
किया है तुम्हें कितना याद ?
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बदला
शिव प्रताप लोधी
*गुरु-वंदना (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इनक मोतियो का
shabina. Naaz
मित्र
विजय कुमार 'विजय'
Loading...