Sep 2, 2016 · 1 min read

चराग़ों की तरह चुप चाप जल जाते तो अच्छा था

दिलों के ज़ख़्म गर लफ़्ज़ों में ढल जाते तो अच्छा था
वो मेरी दास्तां सुनकर पिघल जाते तो अच्छा था
……………..
न होता फिर कोई शिकवा हमारी कम निगाही का
तुम्हारी जुल्फ के ये ख़म निकल जाते तो अच्छा था
…………
किसी से फिर फ़िराक़े यार के क़िस्से नहीं कहते
अगर हम वक्त की सूरत बदल जाते तो अच्छा था
…………
मरीज़े ग़म दुआओं से कभी अच्छे नहीं होते
अगर ये वक्त रहते खुद सम्भल जाते तो अच्छा था
…. ……
पतंगों की तरह हमसे नुमाइश भी नहीं होती
चराग़ों की तरह चुप चाप जल जाते तो अच्छा था
………….
नज़र से हो गये ओझल बड़ा अच्छा किया सालिब
मेरी सोचों की हद से भी निकल जाते तो अच्छा था

139 Views
You may also like:
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
Waqt
ananya rai parashar
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
बेजुबान
Anamika Singh
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
सौगंध
Shriyansh Gupta
मां
Umender kumar
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...