Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

!! चमन का सिपाही !!

कब तक रहेगी आज़ादी ये‌ क़ायम
जहां का सिपाही वतन बेचता हो !

“फर्ज़”है, जिनका चमन को बचाना
सिंचना चमन को,चमन को सज़ाना
चमन के ख़ुशी को चमन रौंदता हो
चमन का सिपाही, चमन बेचता हो
कब तक…………………………..

धरा की धरोहर, फ़रिश्तो को प्यारी
हैं,भारत की भूमि जहां से भी न्यारी
बहू, बेटियों ‌‌ की शरम बेचता हो
धरम का सिपाही,भरम बेचता हो
कब तक………………………….

शत् शत् नमन उन शहीदों को मेरा
है, सिंचा लहू से,जिन्होंने वतन को
होते सितम को, कलम देखता हो
कलम का सिपाही,कलम बेचता हो
कब तक……………………………

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता-मऊ (उ.प्र.)

1 Like · 164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो कहते हैं की आंसुओ को बहाया ना करो
वो कहते हैं की आंसुओ को बहाया ना करो
The_dk_poetry
चांद बहुत रोया
चांद बहुत रोया
Surinder blackpen
🔥वक्त🔥
🔥वक्त🔥
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
छुपा रखा है।
छुपा रखा है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Ankita Patel
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Muhabhat guljar h,
Muhabhat guljar h,
Sakshi Tripathi
दिल कुछ आहत् है
दिल कुछ आहत् है
डॉ.श्री रमण 'श्रीपद्'
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
💐अज्ञात के प्रति-10💐
💐अज्ञात के प्रति-10💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गज़ल
गज़ल
Krishna Tripathi
#लघुकथा / क़ामयाब पहल
#लघुकथा / क़ामयाब पहल
*Author प्रणय प्रभात*
ज़ब्त की जिसमें
ज़ब्त की जिसमें
Dr fauzia Naseem shad
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
Mahendra Narayan
ये वादा करते हैं।
ये वादा करते हैं।
Taj Mohammad
✍️आग तो आग है✍️
✍️आग तो आग है✍️
'अशांत' शेखर
हंस है सच्चा मोती
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कैसे प्रणय गीत लिख जाऊँ
कैसे प्रणय गीत लिख जाऊँ
कुमार अविनाश केसर
खुशी ( Happiness)
खुशी ( Happiness)
Ashu Sharma
वो इश्क किस काम का
वो इश्क किस काम का
Ram Krishan Rastogi
किसी नौजवान से
किसी नौजवान से
Shekhar Chandra Mitra
मेरे बेटे ने
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
ऐतबार नहीं करना!
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
*एक दिवस सब्जी मंडी में (बाल कविता)*
*एक दिवस सब्जी मंडी में (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...