Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2022 · 1 min read

चमचागिरी

कोई बुराई नहीं है चमचागिरी में
ज़िंदगी संवर जाती है चमचागिरी से
बस थोड़ी सी तारीफ ही तो करनी है
फिर ये गुरेज़ कैसा चमचागिरी से

जिसने भी अपनाया है इसे
आज शिखर पर पहुंच गया
लेकर सहारा जिस शख्स का
उससे भी ऊपर पहुंच गया

बुरे को अच्छा कहना है सलीके से
फटे दूध को दही कहना है तरीके से
पकड़ना है बस कमज़ोर नब्ज़ उसकी
फिर उसको ही सहलाना है धीरे से

है काम आसान कोई मेहनत नहीं
है जो ऊंचाई पर अच्छा ही कहना है उसको
कहता है अगर वो कुछ या करता है कुछ
अद्भुत और अविश्वसनीय कहना है उसको

कहता है वो दिन को रात तो तुम भी कह दो
होगी खुशी उसको,तुम्हारा क्या जायेगा
विजेता ही तो कहना है तुम्हें उसे
क्या हुआ अगर हारकर भी वो आएगा

जान ले लेकिन सफल होगा तू तभी
जब तू उसकी जरूरत बन जायेगा
तेरे मक्खन की ताकत से वो आगे बढ़ेगा
तेरे बिना वो एक भी कदम न चल पाएगा

चमचे तो बहुत होंगे उसके
लेकिन एक तू ही उसको भाएगा
चमचों में अग्रणी बनेगा जब तू
तभी तू एक सफल चमचा कहलाएगा

Language: Hindi
14 Likes · 5 Comments · 472 Views
You may also like:
दर्द की चादर ओढ़ कर।
Taj Mohammad
हाँ, मैं ऐसा तो नहीं था
gurudeenverma198
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसने सोचा था कि
Shekhar Chandra Mitra
आदिवासी -देविता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेरणा
Shiv kumar Barman
" निरोग योग "
Dr Meenu Poonia
सर्द चांदनी रात
Shriyansh Gupta
पतंग
सूर्यकांत द्विवेदी
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
अब साम्राज्य हमारा है युद्ध की है तैयारी ✍️✍️
Rohit yadav
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
सनातन भारत का अभिप्राय
Ashutosh Singh
■ नज़्म / धड़कते दिलों के नाम...!
*Author प्रणय प्रभात*
जिन्दगी और सपने
Anamika Singh
✍️नजरअंदाज✍️
'अशांत' शेखर
ज़िंदगी पर भारी
Dr fauzia Naseem shad
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
नमन पूर्वजों के चरणों में ( श्रद्धा गीत )
Ravi Prakash
यूँ ही
Satish Srijan
समय का इम्तिहान
Saraswati Bajpai
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
मुखौटा
संदीप सागर (चिराग)
Writing Challenge- कृतज्ञता (Gratitude)
Sahityapedia
🪔सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राहें
Sidhant Sharma
हे, मनुज अब तो कुछ बोल,
डी. के. निवातिया
कब तुम?
Pradyumna
Loading...