Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 12, 2021 · 1 min read

चंद एहसासात

कहते हैं इरादे बुलंद हों ,और मशक्क़त का
जज़्बा-ए-जुनून हो तो मंज़िल हासिल होती है ,
ग़र तक़दीर साथ न दे , तो तदबीर से खड़े किए महल भी खंडहर में तब्द़ील हो जाते हैं ,

नेक इरादे से उठाए कदम भी बदनीयत के
मोरिद -ए- इल्ज़ाम हो जाते हैं ,

दूसरों के हमदर्द बनना भी कभी खुद के लिए सरदर्द का बा’इस बन जाते है ,

इंसानियत तो इंसानों के साथ होती है ,
पर हैवानों के हुजूम में इंसानियत आंसू बनकर रह जाती है ,

जुल्म की इंतिहा में बेबस ज़िंदगी ,
जज़्ब के सन्नाटे और असीर -ए- अ’ज़ाब के अंधेरे में गुम हो जाती है ,
जिस्म की कैद में छटपटाती रुह ,
आजादी की दुआ मांगती है ,
क्यूँ कि उसे फरिश्तों के मुखौटे लिए हर तरफ जिन्नात नज़र आते हैं ,
जो उसे जीने और बार-बार ज़ुल्म सहने के लिए मजबूर किए जाते हैं ,

5 Likes · 8 Comments · 269 Views
You may also like:
तेरा नाम।
Taj Mohammad
के के की याद में ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
मील का पत्थर
Anamika Singh
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
प्रेम
Kanchan Khanna
# दिल्ली होगा कब्जे में .....
Chinta netam " मन "
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
बरसात
प्रकाश राम
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
गम देके।
Taj Mohammad
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
अब तेरा इंतज़ार न रहा
Anamika Singh
“माटी ” तेरे रूप अनेक
DESH RAJ
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
*फल- राजा कहलाता आम (गीतिका)*
Ravi Prakash
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
ख़्वाब ताबीर
Dr fauzia Naseem shad
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
कभी हम भी।
Taj Mohammad
Loading...