Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2022 · 1 min read

घड़ी

घड़ी ही एकल जगत में ,
सबसे पृथक दिखता है ,
इसके मनोवृत्ति में नहीं ,
पीछे मुड़कर निहारना है।

राजा रंक हो या फकीर ,
उद्विग्नता नहीं करता ये ,
अपनी स्वतंत्र दुनिया में ,
हमेशा चलता रहता ये।

जो चला इसके साथ ,
वह स्वर्ग तक जाता है ,
जो ना चला इसके साथ ,
वह नरक में ही सहमता है।

न किसी का लिप्सा इसे ,
न किसी का दहशत इसे ,
न किसी से शिकायत इसे ,
न किसी से हमदर्दी इसे ,
इसे ही कहते हैं घड़ी।

गरीब – अमीर , छोटा – बड़ा ,
कभी भेदभाव ना करता जो ,
हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई को ,
एक तराजू में समान तौलता जो ,
उसी को कहते हैं घड़ी।

सच्चाई को अपनाकर जो ,
घड़ी के पद चिह्नों पर चलता ,
वही जगत के भविष्य में ,
ऊँंचा नाम कमाता है।

नाम – उत्सव कुमार आर्या
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 190 Views
You may also like:
छतें बुढापा, बचपन आँगन
छतें बुढापा, बचपन आँगन
*Author प्रणय प्रभात*
वो एक लम्हा
वो एक लम्हा
Dr fauzia Naseem shad
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
'अशांत' शेखर
असंवेदनशीलता
असंवेदनशीलता
Shyam Sundar Subramanian
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
इंडिया को इंडिया ही रहने दो
इंडिया को इंडिया ही रहने दो
Shekhar Chandra Mitra
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ  ऐसा आगाज़
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़
Dr Archana Gupta
यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो वह मोक्ष औ
यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो...
Ankit Halke jha
हर किसी के पास हो घर
हर किसी के पास हो घर
gurudeenverma198
“अवसर” खोजें, पहचाने और लाभ उठायें
“अवसर” खोजें, पहचाने और लाभ उठायें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
🌸✴️कोई सवाल तो छोड़ना मेरे लिए✴️🌸
🌸✴️कोई सवाल तो छोड़ना मेरे लिए✴️🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम दीन की शादी
राम दीन की शादी
Satish Srijan
-
- "इतिहास ख़ुद रचना होगा"-
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कोई तो बताए हमें।
कोई तो बताए हमें।
Taj Mohammad
छुअन लम्हे भर की
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धरती माँ
धरती माँ
जगदीश शर्मा सहज
कभी-कभी आते जीवन में...
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
खत्म हुआ मतदान अब
खत्म हुआ मतदान अब
विनोद सिल्ला
*करवाचौथ आई है (हिंदी गजल/गीतिका)*
*करवाचौथ आई है (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
मस्तान मियां
मस्तान मियां
Shivkumar Bilagrami
कहानी
कहानी
Pakhi Jain
बरसात
बरसात
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
टिकोरा
टिकोरा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हाथ मलना चाहिए था gazal by Vinit Singh Shayar
हाथ मलना चाहिए था gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
ਸਾਥੋਂ ਇਬਾਦਤ ਕਰ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੀ
ਸਾਥੋਂ ਇਬਾਦਤ ਕਰ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੀ
Surinder blackpen
जय श्री महाकाल सबको, उज्जैयिनी में आमंत्रण है
जय श्री महाकाल सबको, उज्जैयिनी में आमंत्रण है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साधुवाद और धन्यवाद
साधुवाद और धन्यवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपने ही शहर में बेगाने हम
अपने ही शहर में बेगाने हम
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
Loading...