Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 10, 2017 · 1 min read

घुटन

आजकल कुछ घुटन सा
महसूस होने लगा है
अपने ही घर में
अपनों के बीच रहकर,
शायद उन्हें नागवार हो
अब मेरी हरकतें,
उलझनें और परेशानियाँ,
क्योंकि अब मैं एक
बेजान वृक्ष जैसा हूँ
अंदर से खोखला,
जो किसीको छाया भी
नहीं दे सकता और
हमेशा डर रहता है
टूट कर गिर जाने का।

258 Views
You may also like:
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
पिता
Meenakshi Nagar
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
गीत
शेख़ जाफ़र खान
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
तीन किताबें
Buddha Prakash
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
Loading...