Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

घर बिना विशवास के चलता नहीं

घर बिना विशवास के चलता नहीं
1—–
घर बिना विशवास के चलता नहीं
आजमाना अपनों को अच्छा नहीं

ज़िंदगी की तल्खियों के खौफ से
मुस्कुराता हूँ कभी डरता नहीं

छाँव राहत की ज़रा अब चाहिए
दिल ज़रा भी आंच अब सहता नहीं

नींद से दूरी बना ली रात ने
ख़्वाब उसको कोई अब भाता नहीं

ज़िंदगी क्या ज़िंदगी हो बेमजा
शौक जीने का अगर रहता नहीं

ढूंढ कर परछाइयाँ भी क्या करूँ
जो खुदा के घर गया मिलता नहीं

मौत ने आवाज दी मुझको मगर
ज़िंदगी ने हाथ पर छोड़ा नहीं
———————-

128 Views
You may also like:
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
मैं कही रो ना दूँ
Swami Ganganiya
प्रकृति की नज़ाकत
Dr. Alpa H. Amin
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
दया करो भगवान
Buddha Prakash
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
धोखा
Anamika Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
मेरा जीवन
Anamika Singh
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
खुश रहना
dks.lhp
माहौल का प्रभाव
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️एहसास✍️✍️
"अशांत" शेखर
ये दिल फरेबी गंदा है।
Taj Mohammad
✍️✍️असर✍️✍️
"अशांत" शेखर
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
रोहिणी नन्दन मिश्र
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
Loading...