Jan 18, 2022 · 1 min read

घर घर नहीं रहते

घर
वह पहले वाले
घर नहीं रहते
किसी के जाने के बाद
बचे खुचे लोग
फिर नहीं सम्भलते
किसी के जाने के बाद
यूं तो देखने वालों को
लगता है कि
उनकी जिन्दगी चल रही है
पर वह तो कर रहे होते हैं हर पल
अपनी मौत का इंतजार
इसकी पर शायद किसी को
कानों कान
खबर नहीं होती।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

97 Views
You may also like:
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
पिता
Dr.Priya Soni Khare
"दोस्त"
Lohit Tamta
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
सफर
Anamika Singh
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
🌷"फूलों की तरह जीना है"🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H.
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
**नसीब**
Dr. Alpa H.
Loading...