Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

घनाक्षरी- नारियों का नर जैसा मान होना चाहिए

घनाक्षरी- नारियों का नर जैसा मान होना चाहिए
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नारियों का अपमान क्लेश की वजह एक,
इसका तो सबको ही ज्ञान होना चाहिए।
कष्ट देते बहुओं को कुछ जो दहेज हेतु,
उनपे कानून बलवान होना चाहिए।
मार देते बेटियों को कोख में ही दुष्ट जन,
इसका जरूर समाधान होना चाहिए।
शक्ति के स्वरूप की उपासना से पूर्व सुनें,
नारियों का नर जैसा मान होना चाहिए।

– आकाश महेशपुरी

531 Views
You may also like:
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
बुध्द गीत
Buddha Prakash
सुन्दर घर
Buddha Prakash
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष
Sushil chauhan
हम सब एक है।
Anamika Singh
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...