Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
Jun 9, 2021 · 1 min read

घनाक्षरी छंद (विभावना अलंकार) प्यार

प्यार की घनाक्षरी
विभावना अलंकार
जहाँ बिना कारण के कार्य हो
**************
हमने सोचा था किसी, को पता नहीं चलेगा,
चुपके से सदा प्यार के दिये जलाएँगे ।

जब मन करेगा तो, खुद मन मर्जी से,
प्यार की पावन नदी, साथ में नहाएंगे ।

तू भी चुप मैं भी चुप, सभी कुछ चुप चुप,
फिर भी कहाँ से कैसें,भेद खुल जाएँगे।

सोचा भी नहीं था कभी, तेरे डैडी मेरे घर,
एकाएक चार गुण्डे,लेके चले आएँगे।

गुरू सक्सेना
नरसिंहपुर

1 Like · 1 Comment · 218 Views
You may also like:
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
आपकी स्वतन्त्रता
Dr fauzia Naseem shad
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
शहीद की आत्मा
Anamika Singh
जो... तुम मुझ संग प्रीत करों...
Dr.Alpa Amin
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
रे मेघा तुझको क्या गरज थी
kumar Deepak "Mani"
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम कहाँ लिख पाते 
Dr.Alpa Amin
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
✍️जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
कहते हैं न....
Varun Singh Gautam
*जिनको डायबिटीज (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
हालात
Surabhi bharati
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
सुधार लूँगा।
Vijaykumar Gundal
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️तुम्हे...!✍️
'अशांत' शेखर
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
✍️ज़ख्मो का स्वाद✍️
'अशांत' शेखर
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
" PILLARS OF FRIENDSHIP "
DrLakshman Jha Parimal
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...