Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

जीत कहानी है ये हार कहानी है

“गज़ल”
जीत कहानी है ये हार कहानी है।
कुछ स्याही है,बाकी तो सब पानी है।

ऐ मेरे हमदम मुझको न कहो बूढा,
साथ अभी तक मेरे याद पुरानी है।

हुनर नहीं दौलत का ही तो है मालिक,
फिर दुनिया क्यूँ उसकी यार दिवानी है।

अलविदा कहा जब हाथ हिलाकर उसने,
तब लगा मुझे मौत सभी को आनी है।

प्यार कि खातिर जान लुटा देंगे कहना,
कुछ और नहीं यारों ये नादानी है।
#विनोद

1 Comment · 378 Views
You may also like:
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
I sat back and watched YOU lose me.
Manisha Manjari
आरंभ
मनोज कर्ण
प्रकृति कविता
Harshvardhan "आवारा"
नामे बेवफ़ा।
Taj Mohammad
Apology
Mahesh Ojha
तुम भी न पा सके
Dr fauzia Naseem shad
ख्याल में तुम
N.ksahu0007@writer
तीर तुक्के
सूर्यकांत द्विवेदी
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जमीन की भूख
Rajesh Rajesh
लावा
Shekhar Chandra Mitra
*जाने कौन आता है (गीत)*
Ravi Prakash
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
✍️✍️चार बूँदे...✍️✍️
'अशांत' शेखर
जाति दलदल या कुछ ओर
विनोद सिल्ला
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
✍️जन्मदिन✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
शिक्षक दिवस पर गुरुजनों को शत् शत् नमन 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।
Anamika Singh
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...