Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 19, 2016 · 1 min read

गज़ल

अहसास के फलक पर, चाहत की बदलियाँ हैं,
दिल के चमन में उड़ती, खुशियों की तितलियाँ हैं।

अच्छे दिनों का देखो क्या खूब है नज़ारा,
बस भूख से तड़पती बेहाल बस्तियाँ हैं।

आती भला ख़ुशी भी कैसे हमारे घर फिर,
दिल के मकां पे लटकी, बस गम की तख्तियाँ हैं।

माँ की दवाई हो या, भाई की हो पढ़ाई,
चूल्हे में रोज जलती, अस्मत की लकड़ियाँ हैं।

माजी की याद कोई , अब तक जवां है दिल में,
तकिये के नीचे अब भी, कुछ ज़र्द चिट्ठियाँ हैं।

ये दिल की है अदालत, कब जाने फैसला हो,
फाइल में अटकी अब तक, चाहत की अर्जियां हैं।

हैं संग भी लहद के, देखो यहाँ पिघलते,
इक जलजला उठाती, ये किसकी हिचकियाँ हैं।

बादल का कोई टुकड़ा, आता नही ‘शिखा’क्यों
मुद्दत से खोल रक्खी , इस दिल की खिड़कियाँ हैं।

दीपशिखा सागर-

1 Like · 1 Comment · 324 Views
You may also like:
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दहेज़
आकाश महेशपुरी
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
यादें
kausikigupta315
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
संघर्ष
Arjun Chauhan
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...