Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 26, 2016 · 1 min read

गज़ल :– जो आज भी उसमें गुमान बाकी है ॥

ग़ज़ल :– जो आज भी उसमें गुमान बाकी है !!
बहर :– 2212 2212 1222

जो आज भी उसमें गुमान बाकी है ।,
नातों का सारा इम्तिहान बाकी है ।

वो जंग अपनों से कभी नहीं हारा ।
उसके लहू में जो उफान बाकी है ।

उपहार में जो ज़ख्म है दिए उसने ।
उस जख्म का गहरा निशान बाकी है ।

इन आँधियों में उड़ते झोपड़े अक्सर ।
उनका महल तो आलीशान बाकी है ।

सूरज अभी जो है मुंडेर में तेरे ।
पर देख तो आगे ढलान बाकी है ।

अनुज तिवारी “इन्दवार”

1 Like · 1 Comment · 366 Views
You may also like:
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️I am a Laborer✍️
"अशांत" शेखर
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H. Amin
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
✍️बात मुख़्तसर बदल जायेगी✍️
"अशांत" शेखर
सुरज और चाँद
Anamika Singh
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
सच एक दिन
gurudeenverma198
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
एक गलती ( लघु कथा)
Ravi Prakash
मरते वक्त उसने।
Taj Mohammad
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️घुसमट✍️
"अशांत" शेखर
✍️मैं परिंदा...!✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Ray's Gupta
Loading...