Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल (खेल जिंदगी)

गज़ल (खेल जिंदगी)

दिल के पास है लेकिन निगाहों से बह ओझल हैं
क्यों असुओं से भिगोने का है खेल जिंदगी।

जिनके साथ रहना हैं ,नहीं मिलते क्यों दिल उनसे
खट्टी मीठी यादों को संजोने का ,है खेल जिंदगी।

किसी के खो गए अपने, किसी ने पा लिए सपनें
क्या पाने और खोने का ,है खेल जिंदगी।

उम्र बीती और ढोया है, सांसों के जनाजे को
जीवन सफर में हँसने रोने का, है खेल जिंदगी।

किसी को मिल गयी दौलत, कोई तो पा गया शोहरत
मदन बोले , काटने और बोने का ये खेल जिंदगी।

गज़ल (खेल जिंदगी)
मदन मोहन सक्सेना

159 Views
You may also like:
81 -दोहे (महात्मा गांधी)
Rambali Mishra
■ सामयिक व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
Fear From Freedom
AJAY AMITABH SUMAN
"सेवानिवृत कर्मचारी या व्यक्ति"
Dr Meenu Poonia
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
वर्तमान भी छूट रहा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️ताला और चाबी✍️
'अशांत' शेखर
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
घर का ठूठ2
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उसी ने हाल यह किया है
gurudeenverma198
🌹🌺कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ, तुम्हारी याद जो है संग...
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोच
kausikigupta315
*और फिर बहुऍं घरों के कामकाज निभाऍंगी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
प्रतियोगिता
krishan saini
खांसी की दवाई की व्यथा😄😄
Kaur Surinder
भीड़ का अनुसरण नहीं
Dr fauzia Naseem shad
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कलाकार की कला✨
Skanda Joshi
राम वनवास
Dhirendra Panchal
ख्वाहिशों ठहरो जरा
Satish Srijan
🙏माँ कूष्मांडा🙏
पंकज कुमार कर्ण
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
पंडित जी
सोनम राय
वेदनापूर्ण लय है
Varun Singh Gautam
मेरे मुस्कराने की वजह तुम हो
Ram Krishan Rastogi
दिल की दवा चाहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उजड़ती वने
AMRESH KUMAR VERMA
काम का बोझ
जगदीश लववंशी
Loading...