Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 15, 2022 · 1 min read

ग्रीष्म ऋतु भाग ४

दोपहरी आते ही धरा कण
अग्निकुंड रूप धरने लगे है।
देहाती जन के दिन अब तो
आम्र की छांव में कटने लगे हैं।
वन प्राणी सब किरिन्दरा व
बरगद जल में बटने लगे हैं।
ग्रीष्म काल इस दोपहरी में
धरा से जिगने उड़ने लगे हैं।

-विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

््््््््््््््््््््््््््््््््््््््

1 Like · 77 Views
You may also like:
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
शेर राजा
Buddha Prakash
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️जिंदगी की सुबह✍️
"अशांत" शेखर
खुश रहना
dks.lhp
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
रिश्ते
Saraswati Bajpai
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
💐💐परमात्मा इन्द्रियादिभि: परेय💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
मांँ की लालटेन
श्री रमण
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जग के पिता
DESH RAJ
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
Loading...