Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 15, 2022 · 1 min read

ग्रीष्म ऋतु भाग २

हरे भरे आम की बगिया में
केरी के गुच्छे लगने लगे हैं।
पलाश हुआ है बेरंग पर
नीम के रंग अब जमने लगे हैं।
पतझड़ जंगल बिन पत्ते वृक्ष
त्यागी तपस्वी से लगने लगे हैं।
शनै शनै विष्णु देश काल में
ग्रीष्म के तेवर बढ़ने लगे हैं।

– विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

््््््््््््््््््््््््््््््््््््््

93 Views
You may also like:
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फूल की महक
DESH RAJ
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
यादें आती हैं
Krishan Singh
गीत
शेख़ जाफ़र खान
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H. Amin
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
पिता
Ray's Gupta
Loading...