Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग्रहण

यह कैसा ग्रहण लगा है ,
मेरे जीवन को भगवान !
ना ही मुक्ति मिले दुख से ,
ना ही तन से छूटे प्राण ।

ग्रहण ऐसा जो हमारे सम्पूर्ण ,
अस्तित्व पर है छाया हुआ ।
हमारा आत्मविश्वास और ,
हमारा स्वाभिमान घायल हुआ ।

हमारी समझ और विचारों को ,
जैसे जंग सा लगा हुआ है ।
हमारी रचनात्मकता ,कार्य कुशलता
को लकवा मारा हुआ है ।

उड़ता है केवल मन ऊंची उड़ान ,
तन को तो बेड़ियां बंधी हुई ।
पंख काटे हुए है हालातों ने ,
मैं मुसीबतों के दलदल में हूं धंसी हुई ।

नसीब है रूठा हुआ यूं ही ,
और भगवान ! तुम हो बेपरवाह ,
कैसे पुकारूं ,कितना पुकारूँ,
तुम सुनते क्यों नही मेरी आह ।

यह तो मानना ना मुमकिन है ,
की तुम मेरी तरह मजबूर हो ।
बल्कि न ही तुम नादान और ,
ना ही मेरी तरह कमजोर हो।

तुम चाहो तो क्या नहीं कर सकते ,
पल में भाग्य बदल सकते हो ।
किसी को कभी भी नर्क से निकालकर ,
स्वर्ग में स्थापित कर सकते हो ।

फिर मेरी तरफ तुम्हारी नज़र क्यों नहीं?
बोलो भगवान ! मेरे जीवन का ग्रहण तुम ,
दूर करते क्यों नहीं?

मिट जाए यह ग्रहण ,
तो कुछ थोड़ा सा मैं भी जी लूं ।
खुशहाल जीवन क्या होता है ,
मैं भी तो यह जान लूं।

मृत्यु से पहले तो मैं मरना नहीं चाहती,
अपने अरमानों को अधूरा नहीं छोड़ सकती ।
मगर लगा हुआ है जो मेरी अभिलाषाओं पर ग्रहण ,
उसे स्वयं तो दूर नहीं कर सकती ।

बहुत हाथ पांव मारती रही हूं अब तक ,
और अब भी यह प्रयास जारी है।
और कहां तक लड़ूं हालातो से ,नसीब से ,
अब तुम ही कुछ करो ,
कोशिश करने की बारी अब तुम्हारी है ।

” अनु” को तो है बस तुम पर भरोसा ,
और तुम ही हो मेरा एकमात्र सहारा।
तुम ही कर सकते हो एक पल में ,
मेरा इस ग्रहण से निबटारा ।

3 Likes · 6 Comments · 68 Views
You may also like:
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
ईश्वर की अदालत
Anamika Singh
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
विश्वासघात
Seema 'Tu haina'
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भारत माँ से प्यार
Swami Ganganiya
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
किसी दिन
shabina. Naaz
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
मुकम्मल जहां
Seema 'Tu haina'
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
मिटाने लगें हैं लोग
Mahendra Narayan
अपने कदमों को बस
Dr fauzia Naseem shad
'कैसी घबराहट'
Godambari Negi
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
बिहार में खेला हो गया
Ram Krishan Rastogi
निराला जी की मजदूरन
rkchaudhary2012
✍️रिश्तेदार.. ✍️
Vaishnavi Gupta
रूको भला तब जाना
Varun Singh Gautam
कच्चे धागे का मूल्य
Seema 'Tu haina'
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
✍️ये जिंदगी कैसे नजर आती है✍️
'अशांत' शेखर
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
अनोखी सीख
DESH RAJ
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
बादल जब गरजे,साजन की याद आई होगी
Ram Krishan Rastogi
Loading...