Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गौरैया

गौरैया दिवस पर विशेष –
=================

कहाँ गई प्यारी गौरैया,
सोचो और विचारो भैया।
आँगन में खूब फुदकती थी,
बैठ मुंडेर चहकती थी।
अब उसका कोई पता नहीं,
अपनी तो कोई खता नहीं?
आखिर ऐसा क्यों है होता,
खो जाने पर दिल है रोता।
पहले से देते ध्यान नहीं,
क्या हम ऐसे श्रीमान नहीं?
अब हम नीड़ बनाते हैं,
दाना रोज़ खिलाते हैं।
नहीं जरूरत है अब इसकी,
सोचो क्यों गौरैया खिसकी?
उसको अपना परिवेश चाहिए,
अपना प्यारा देश चाहिए ।
नीड़ बसेरे खुद बुन लेगी,
दाना-पानी खुद चुग लेगी।

डाॅ. बिपिन पाण्डेय

1 Comment · 67 Views
You may also like:
आदमी आदमी के रोआ दे
आकाश महेशपुरी
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
आज जानें क्यूं?
Taj Mohammad
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
  " परिवर्तन "
Dr Meenu Poonia
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
■■★परमात्मनः शक्ति:★■■
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"एक अत्याचार"
पंकज कुमार "कर्ण"
*अग्रसेन भागवत के महान गायक आचार्य विष्णु दास शास्त्री :...
Ravi Prakash
इश्क है क्या
Anamika Singh
"लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
हम समझते थे
Dr fauzia Naseem shad
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️आसमाँ के परिंदे ✍️
Vaishnavi Gupta
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️सब्र कर✍️
Vaishnavi Gupta
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
🌺🍀परिश्रम: प्रकृत्या सम्बन्धेन भवति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
'अशांत' शेखर
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
Loading...