Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 26, 2017 · 1 min read

गौरव

मुझे गौरव है मेरा महान देश है
भिन्न भिन्न इस देश का वेश है
यहां हर एक हिन्दुस्तानी की ऐश है
विशव का सबसे प्यारा हमारा देश है।
जय भारत माता
जय हिन्दुस्तान

209 Views
You may also like:
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसात
मनोज कर्ण
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
महँगाई
आकाश महेशपुरी
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...