Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#19 Trending Author
Jun 29, 2022 · 3 min read

*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*

*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
~~~~~~~~~~~~~~~~~|~~
रक्षाबंधन का दिन था । आसमान में पतंगे उड़ रही थीं। पिंकी का मन भी पतंग उड़ाने के लिए मचल उठा । बाजार से जाकर एक #पतंग और चरखी पर कुछ डोर चढ़वा कर ले आई और उड़ाने लगी । मगर पतंग ऐसे थोड़े ही उड़ती है ? उसके लिए छुटकैया देनी पड़ती है । छुटकैया देने वाला कोई नहीं था। तब पतंग भला कैसे उड़ती ?
आखिर पिंकी थक गई ।चेहरे पर पसीना आ गया । उदास हो गई । सिर झुका कर ,दुखी होकर छत के एक कोने में पतंग हाथ में लेकर बैठ गई । सोचने लगी ,अब मेरी पतंग नहीं उड़ पाएगी । तभी उसकी निगाह गोलू चिड़िया की तरफ गई ,जो उसकी पतंग को अपनी चोंच में पकड़ कर उड़ाने की कोशिश कर रही थी । पिंकी ने जब गोलू चिड़िया को कई बार ऐसी कोशिश करते हुए देखा तो उसे लगा कि जरूर गोलू चिड़िया उसकी कुछ मदद करना चाहती है।
पिंकी से उसकी पुरानी दोस्ती थी ।जब पिंकी पिछले साल नर्सरी कक्षा में आई थी ,तब गोलू चिड़िया से उसकी जान-पहचान हो गई थी । रोजाना सुबह को पिंकी चावल लेकर छत पर जाती थी और गोलू चिड़िया सबसे पहले पिंकी को देखते ही दौड़ कर आ जाती थी। केवल चावल ही नहीं चुगती थी बल्कि पिंकी के हाथ पर चढ़कर बैठ जाती थी और जब तक पिंकी उसके पंखों को अपने नाजुक हाथों से सहला नहीं देती थी, गोलू चिड़िया को चैन नहीं मिलता था । शाम को फिर यही क्रम था । पिंकी पेड़ों में पानी देने के लिए छत पर आती थी, लेकिन असली खिलौना तो गोलू चिड़िया ही थी । उसके साथ खेलने में पिंकी को भी बड़ा मजा आता था । दोनों की दोस्ती रोजाना बढ़ रही थी ।
इसी दोस्ती का परिणाम था कि गोलू चिड़िया इस बात की कोशिश कर रही थी कि पिंकी की पतंग किसी तरह आसमान में उड़ जाए । आखिर पिंकी की समझ में बात आ ही गई । उसने गोलू चिड़िया की चोंच में पतंग का एक कोना पकड़ाया और खुद डोर लेकर दूर खड़ी हो गई । गोलू चिड़िया अब धीरे-धीरे अपनी चोंच से आसमान की तरफ उड़ने की कोशिश करने लगी । मगर पतंग भारी थी । बेचारी गोलू चिड़िया का वजन ही कितना था ! उससे पतंग लेकर आसमान में नहीं उड़ा जा रहा था । लेकिन उसने हार नहीं मानी । ची – ची – ची – ची की आवाज के साथ उसने तीन चिड़ियों को और बुला लिया । यह उसकी या तो बहनें थीं या फिर सहेलियां ।
तीनों चिड़ियों के आने के बाद अब गोलू चिड़िया के साथ-साथ कुल मिलाकर चार चिड़िएँ हो गई थीं। अब क्या था ! चारों ने पतंग के चार कोनों को अपनी चोंच से पकड़ा और फुर्ती के साथ आसमान की तरफ उड़ गईं। पिंकी डोर छोड़े जा रही थी और उसकी पतंग चारों चिड़िएँ अपनी चोंच से पकड़कर आसमान में ऊंचाइयों पर ले जा रही थीं।
पिंकी की इतनी ऊंची उड़ती हुई पतंग को देखकर आस – पड़ोस की छतों पर जो बच्चे खड़े थे ,वह आश्चर्यचकित रह गए। उन्होंने चिड़ियों को देखा और चिड़ियों की चोंच में पकड़ी हुई पतंग को देखकर दांतो तले उंगली दबा ली । पिंकी खुशी से फूली नहीं समा रही थी । आखिर चिड़ियों के साथ उसकी दोस्ती ने उसका त्यौहार खुशनुमा बना ही दिया ।
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

37 Views
You may also like:
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
"अशांत" शेखर
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
** दर्द की दास्तान **
Dr.Alpa Amin
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
God has destined me with a unique goal
Manisha Manjari
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
✍️तन्हा खामोश हूँ✍️
"अशांत" शेखर
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
जितना भी पाया है।
Taj Mohammad
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
विधवा की प्रार्थना
Tnmy R Shandily
💐अशान्ति: अवश्यमेव नष्ट: भविष्यति,कदा??💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
हर लम्हा कमी तेरी
Dr fauzia Naseem shad
लिपट कर तिरंगे में आऊं
AADYA PRODUCTION
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो मेरी तलाश में…✍️
"अशांत" शेखर
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️✍️नासूर दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
Loading...