Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 25, 2022 · 1 min read

गुलमोहर

जब तुम यौवन पर होते हो,
सारा जग भी खिल जाता है।
तुम्हारा ऐसा दर्श देखकर तो,
युवती यौवन भी शर्मा जाता है।।

जेष्ठ आषाढ़ की तेज गर्मी में,
तुम सदैव मुस्कराते रहते हो।
कठिन पथ पर चलकर भी,
तुम आगे ही बढ़ते जाते हो।।

तुम जीवन के गुल ही नहीं हो,
हर तरह की मोहर भी हो।
अपनी अमिट छाप देकर,
तुम जीवन पर छोड़ जाते हो।।

देखकर तुम्हारे सुर्ख रंग को,
अवनि अम्बर सज जाते है।
मानव तो क्या पशु पक्षी भी,
देखकर तुम्हे खुश हो जाते है।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

2 Likes · 4 Comments · 115 Views
You may also like:
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
लगा हूँ...
Sandeep Albela
मेरे पापा
Anamika Singh
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
मित्र
Vijaykumar Gundal
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
" मायूस धरती "
Dr Meenu Poonia
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
इश्क है यही।
Taj Mohammad
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
गुरु की महिमा***
Prabhavari Jha
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
पिता
Raju Gajbhiye
आप कौन है
Sandeep Albela
कुछ कर गुज़र।
Taj Mohammad
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
Loading...