Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गुरू गोविंद

मित्रों सादर समर्पित है ,आल्हा।

गुरू गोविंद बडे़ लडै़या,संहारा मुगलों का ताज।
दोनों पूतों की बलि देदी, ऋणी हो गया हिन्द समाज।
हर हर महादेव के नारे,गूंज रहे थे तीनों लोक।
अट्टहास करती मां काली, चम चम शोणित का आलोक।
बलिवेदी पर दोनों प्यारे, हँसते हँसते हो बलिदान।
धरती कांपी जंगम रोया, रोया था तब हिन्दुस्तान।
इन वीरों की अमर कहानी, जब जब लिक्खेगा इतिहास।
खूनी अक्षर खुद लिक्खेगें, शाही वह निर्मम उपहास।
जिंदा पूतों को चुनवाया,मनमानी की एक मिसाल।
वीर सपूतों ने बलि देदी, इस्लाम को छोड़ बेहाल।

वीरता की ये पराकाष्ठा, भारत माँ का ऊँचा भाल।
ऐसे वीरों के घर जन्मे, वे गुरू गोविंद के लाल।
पंचम प्यारे वीर अनोखे, अर्पित किया गुरू को शीश।
रण में लड़ते जैसे योद्धा,गुरुओं का लेकर आशीष।
कर में खड्ग फड़कती जैसे,चपला चमके अरि के पास।
छिन्न भिन्न होकर के शीशें,जैसे गिरें धरा पर वास।

डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम।

101 Views
You may also like:
मेरे प्यारे देशप्रेमियों
gurudeenverma198
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
हम बस देखते रहे।
Taj Mohammad
क्या कुछ नहीं है मेरे पास
gurudeenverma198
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
खेत
Buddha Prakash
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
चाँद ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
गिरवी वर्तमान
Saraswati Bajpai
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का...
Ravi Prakash
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
✍️✍️चुभन✍️✍️
'अशांत' शेखर
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
रे मेघा तुझको क्या गरज थी
kumar Deepak "Mani"
दर्दे दिल
Anamika Singh
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
अल्फाजों के घाव।
Taj Mohammad
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
💐दुर्गुणं-दुराचार: व्यसनं आदि दुष्ट: व्यक्ति: सदृश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
फिर भी तुम्हारे लिए
gurudeenverma198
Loading...