Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गुरु वंदन …..

प्रथम चरण वंदन गुरु देव को, राह अस्तित्व की दियो बताये।
मुझे निर्जन शिला से, घिस घिस कर नगीना दियो बनाये ।।

कितने शुभ दिवस पर बना आज पावन संजोग
गुरु गणपति संग आयो है गुरु दिवस का योग ।।

गुरु महिमा बखान क्या कीजे , मन बुद्धि गुरु से निर्मल होये ।
बिन गुरु जीवन पत्थर समान, पड़े हाथ गुरु के मोती बन जाये ।।

जीवन के श्रंगार को रूप मिले माता पिता के प्रेम ज्ञान से ।
खुशबू के रंग भरता गुरु, जीवन महकता उनके कल्याण से ।।

नमन हर उस इंसान को जो जीवन में मेरे आता है ।
देकर अच्छे बुरे अनुभव कुछ न कुछ सिखा जाता है ।।
!
!
!
डी. के निवातियाँ _____@@@

2 Comments · 211 Views
You may also like:
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
✍️मनस्ताप✍️
"अशांत" शेखर
परिंदों से कह दो।
Taj Mohammad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
दुनिया
Rashmi Sanjay
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
अशांत मन
Mahender Singh Hans
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️सलीक़ा✍️
"अशांत" शेखर
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
अगर तुम खुश हो।
Taj Mohammad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अजीब कशमकश
Anjana Jain
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
प्रदीप छंद और विधाएं
Subhash Singhai
✍️✍️असर✍️✍️
"अशांत" शेखर
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...