Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 20, 2017 · 1 min read

गुरबत

फिर एक बार शरत
आया है अपने साथ
लेकर नवरात्रि का पर्व ,
चारो ओर चहल-पहल
खुशी की है माहौल,
रंग बिरंगे कपड़े पहनकर
निकलेंगे सब सजधजकर,
मगर फिर भी कुछेक
घरों में अन्धेरा रहेगा,
पेट की आग उनको
कुछ सोचने न देगा,
फर्क नहीं पड़ता उनको
नवरात्रि हो या दिवाली,
उनको तो झेलनी पड़ती है
तमाम दर्द गुरबत की ।

197 Views
You may also like:
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
पंचशील गीत
Buddha Prakash
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता की याद
Meenakshi Nagar
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...