Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

गुम हो रही हिन्दी

अंग्रेजी दिवस, फ्रेंच दिवस
या फिर मनाते चीनी दिवस
न देखा ,न सुना, न जाना
सिवाय हिन्दी के हिंदुस्तान में ।
हिंदी बनी घर की दासी ।
क्या फिक्र है हमें जरा सी?
कोमल हृदय मन मस्तिष्क में ,
चला रहे हैं हथौड़ा अंग्रेजियत के
जन्म से ही रिश्ते के शब्दों में
खो दिया मां- बाबूजी का प्यार।
अभिवादन में आशीष और दुलार।
नर्सरीे से ही क्लिष्ट भाषा से
जोड़ रहे हैं अबोध के
भविष्य की गाथा ।
मातृभाषा की अवहेलना कर
अपनाते तरह-तरह के हथकंडे ।
न्यूज़ पेपर , इंटरव्यू , नावेल,
राइम से मूवी तक वक्त बिताते।
सहज मुख टेढ़ा करते ,
कैसी झूठी शान दिखाते।
बन चुके हैं भाषाई खच्चर
हालत धोबी के कुत्ते सी
क्या ऐसे दिलाएंगे हिंदी को सम्मान?
जहां पल-पल अस्मिता लुटती
मिटती ,बिगड़ती हिन्दी की तस्वीर।
इसके बावजूद क्या सामर्थ्य है
विश्वभाषा बनने की?

190 Views
You may also like:
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Meenakshi Nagar
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
Loading...