Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-450💐

गुदगुदाती रहेगी उनके दिल में मेरे नाम की बाज़ीगिरी,
दिल के बाजीगरों पे बचती है बस,दिल की बाजीगिरी,
हर रंग ज़माने का जँचता नहीं है,उन्हें लगता है फ़ीका,
इश्क़ की बाज़ीगिरी है,न मेरी बाज़ीगिरी न उनकी बाज़ीगिरी।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
1 Like · 293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्ति का दे दो दान
मुक्ति का दे दो दान
Samar babu
ख़ामोशी रहना मुश्किल है!
ख़ामोशी रहना मुश्किल है!
Shekhar Chandra Mitra
“ बधाई आ शुभकामना “
“ बधाई आ शुभकामना “
DrLakshman Jha Parimal
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
Namrata Sona
"दोस्ती के लम्हे"
Ekta chitrangini
नागफनी बो रहे लोग
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
I am not born,
I am not born,
Ankita Patel
हमको जो समझे हमीं सा ।
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
दोहे भगवान महावीर वचन
दोहे भगवान महावीर वचन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम लिखते क्यों हैं
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
कूल नानी
कूल नानी
Neelam Sharma
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
Dushyant Baba
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
वक्त
वक्त
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
✍️डर काहे का..!✍️
✍️डर काहे का..!✍️
'अशांत' शेखर
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
संग चले जीवन की राह पर हम
संग चले जीवन की राह पर हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐प्रेम कौतुक-553💐
💐प्रेम कौतुक-553💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री x एक अबोध बालक x अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री x एक अबोध बालक x अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हार फिर होती नहीं...
हार फिर होती नहीं...
मनोज कर्ण
गौरव है मेरा, बेटी मेरी
गौरव है मेरा, बेटी मेरी
gurudeenverma198
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
सिंदूरी इस भोर ने, किरदार नया फ़िर मिला दिया ।
सिंदूरी इस भोर ने, किरदार नया फ़िर मिला दिया ।
Manisha Manjari
*धन्य-धन्य हे दयानंद, जग तुमने आर्य बनाया (गीत)*
*धन्य-धन्य हे दयानंद, जग तुमने आर्य बनाया (गीत)*
Ravi Prakash
“गुरुनानक जयंती 08 नवम्बर 2022 पर विशेष” : आदर एवं श्रद्धा के प्रतीक -गुरुनानक देव
“गुरुनानक जयंती 08 नवम्बर 2022 पर विशेष” : आदर एवं श्रद्धा के प्रतीक -गुरुनानक देव
सत्य भूषण शर्मा
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
*Author प्रणय प्रभात*
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...