Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 14, 2016 · 1 min read

“गीत”

“गीत”
___

स्थाई –
*****
जाग है जिन्दगी |
फाग है जिन्दगी |
छंद सा जी इसे ,
राग है जिन्दगी |….
अंतरा –
*****
एक हो मीत भी
हार में जीत भी
भाव ऐसे लिए
हम जियें जिन्दगी ….. जाग है जिन्दगी ……

धूप तीखी मिले
पर अधर हों खिले
मीत के संग में
खुश रहे जिन्दगी …… जाग है जिन्दगी ……

दूर हो चाँदनी
भूल मत रागिनी
यामिनी यामिनी
भोर हो जिन्दगी ……. जाग है जिन्दगी ……
धूप है छाँव है |
जिन्दगी काँव है |
अब सजा ले इसे
दाँव है जिन्दगी ……. जाग है जिन्दगी ……

काम है जो सही |
सो करो भी वही |
टालना जी नहीं ,
आज है जिन्दगी ……. जाग है जिन्दगी ……..
“छाया”

1 Like · 2 Comments · 292 Views
You may also like:
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
तीन किताबें
Buddha Prakash
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...