Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 1, 2022 · 1 min read

गीत –

आज जब जाने लगी,
घर धूप बनकर छाँव..
याद फिर आने लगे,
पुरवाईयों के गाँव ..

खो गयी है भीड़ में ,
गाँव की वो मस्तियाँ I
भोर को भी जगाती,
बैल की वो घण्टियाँ॥
आज छत से कह गया,
कौए का काँव – काँव…
याद फिर आने लगे ,
पुरवाईयों के गाँव…

पार्कों का शहर के
धूल से शृंगार है।
रूठ कर छुपने लगी,
हवा अब लाचार है ॥
ढूँढने जब से लगे ,
हैं लोग पीपल पाँव…
याद फिर आने लगे ,
पुरवाईयों के गाँव ..

कैद हैं घर में सभी ,
ले बचपनों की याद ।
खा रहें हैं रोग को ,
रोटी के संग खाद ॥
फेफड़ें जर्जर हुए,
जब करके खाँव खाँव…
याद फिर आने लगे ,
पुरवाईयों के गाँव ..

2 Likes · 77 Views
You may also like:
न्याय
Vijaykumar Gundal
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
सुरज और चाँद
Anamika Singh
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
✍️झूठ और सच✍️
"अशांत" शेखर
'स्मृतियों की ओट से'
Rashmi Sanjay
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
✍️डार्क इमेज...!✍️
"अशांत" शेखर
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
#अपने तो अपने होते हैं
Seema Tuhaina
*अग्रसेन जी धन्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
बहुत कुछ सिखा
Swami Ganganiya
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
महँगाई
आकाश महेशपुरी
नव गीत
Sushila Joshi
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
✍️मौसम सर्द हुआ है✍️
"अशांत" शेखर
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
बदला
शिव प्रताप लोधी
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...