Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गीत

खुली पुस्तिका से जीवन को, काश! किसी ने जाना होता।
मुझको भी पहचाना होता।।
मुझको भी……

न जाने कितनी रातों को जगकर कितने सपने बोये,
दिन होने पर उन सपनो में कितने पाये, कितने खोये।
जीवन के इस पथ पर हमने कितनी बार ठोंकरें खायीं,
पलकें करके बंद न जाने कितनी दफा ये आंखें रोयीं।
इसीलिए है पता मुझे, मुश्किल ख्वाबों को पाना होता।।
तुमने गर ये जाना होता।
मुझको भी पहचाना होता।।

मेरे नेह भरे उर को, कितनों ने ही उपहास दिया है,
फिर भी मैंने दीपक सा जल, चारो ओर प्रकाश दिया है।
अपनों की उम्मीदों के पैमाने पर हर रोज नपा हूं,
अंधकार को चीर-चीरकर दिनकर जैसा रोज तपा हूं।।
रोज दिलासा देकर खुद को मुश्किल सब समझाना होता।
तुमने गर ये जाना होता।
मुझको भी पहचाना होता।।

किसको पता, कौन ये जाने, किसका कितना पानी-दाना,
है स्थायी किसी का भी न, इस दुनिया में ठौर-ठिकाना।
खाली हाथ सभी हैं आए, खाली हाथ सभी को जाना,
रंगमंच सी इस दुनिया में, सबको है किरदार निभाना।।
तुमने गर ये जाना होता।
मुझको भी पहचाना होता।।
-विपिन कुमार शर्मा
रामपुर

2 Likes · 1 Comment · 259 Views
You may also like:
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
बुद्धिजीवियों के आईने में गाँधी-जिन्ना सम्बन्ध
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
Ravi Prakash
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
मनुष्यस्य शरीर: तथा परमात्माप्राप्ति:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
परमात्मतत्वस्य प्राप्तया: सर्वे अधिकारी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
एक कसम
shabina. Naaz
खयाल बन के।
Taj Mohammad
✍️दरिया और समंदर✍️
'अशांत' शेखर
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
कैसे बताऊं,मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
*भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
“ जालंधर केंट टू अमृतसर ” ( यात्रा संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
जाने कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
जो बीत गई।
Taj Mohammad
*हर घर तिरंगा (गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...