Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 9, 2016 · 1 min read

गीत

तौबा- तौबा करते- करते प्यार हो गया।
आँखों ही आँखों में कब इक़रार हो गया।

कुछ ना बोली, मुख ना खोली।
जानूँ ना मैं, आँख- मिचौली।

मिलते- जुलते कब दिल, बेक़रार हो गया।
पलकों के पीछे से, कोई वार हो गया।

अमुवा ऊपर कोयल बोली।
मैं तो कोई राज़ न खोली।

जाने कैसे तीर ज़िगर के पार हो गया।
बैठे- थाले, हम- दोनों में, प्यार हो गया।

कब तक डरती, प्यार न करती।
कुछ तो होगी, रब की मर्ज़ी।

साँझ- सकारे क्यों, उसका दीदार हो गया।
उसको भी तो मुझपे, ऐतवार हो गया।

रंगों से खेली ना होली,
नादां मैं नादां हमजोली।

दीवाने को दीवानी से सरोकार हो गया।
हँसते- हँसते, प्यार का बुखार हो गया।

श्रीमती रवि शर्मा

158 Views
You may also like:
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H. Amin
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"शौर्य"
Lohit Tamta
मानव तू हाड़ मांस का।
Taj Mohammad
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नई तकदीर
मनोज कर्ण
पिता
Dr. Kishan Karigar
मरते वक्त उसने।
Taj Mohammad
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
Loading...