Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 11, 2022 · 1 min read

गीत… हो रहे हैं लोग

गीत…

हो रहे हैं लोग अपने, आप पर ही मुग्ध जब।
गीत कोई यूँ किसी का, क्यों सुनेगा बैठ अब।।

बज रही इन तालियाँ में, लोग खोते जा रहे।
लग रहा अच्छा जिसे जो, राग वह ही गा रहे।।
पूछता है कौन किसको, सब हुए बेदार जब।
गीत कोई यूँ किसी का, क्यों सुनेगा बैठ अब।।

है नहीं अनुराग मन में, पर दिखावे का चलन।
पूछती खुशियाँ बेचारी, हो रही है क्यों जलन।।
लोभ के ऊँचे महल में, सज रहे हैं स्वप्न जब।
गीत कोई यूँ किसी का, क्यों सुनेगा बैठ अब।।

बन रहे योद्धा रथी सब, पर खड़े अपने लिए।
कह रहे वह बादलों से, जल जहाँ हमने दिए।।
मद सुगंधित हो रहा है, बढ़ रहा व्यापार जब।
गीत कोई यूँ किसी का, क्यों सुनेगा बैठ अब।।

खोखले संवाद की यह, हो रही जो खेतियाँ।
है बताई जा रही क्या, खूब इनकी खूबियाँ।।
बढ़ रहा हो झींगुरों का, मंच पर सम्मान जब।
गीत कोई यूँ किसी का, क्यों सुनेगा बैठ अब।।

हो रहे हैं लोग अपने, आप पर ही मुग्ध जब।
गीत कोई यूँ किसी का, क्यों सुनेगा बैठ अब।।

डाॅ. राजेन्द्र सिंह ‘राही’
(बस्ती उ. प्र.)

1 Like · 1 Comment · 82 Views
You may also like:
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
कुछ ना रहा
Nitu Sah
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
'अशांत' शेखर
✍️'गंगा बहती है'✍️
'अशांत' शेखर
हसद
Alok Saxena
भोरे
spshukla09179
हलाहल दे दो इंतकाल के
Varun Singh Gautam
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तमाम उम्र।
Taj Mohammad
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
आस्था और भक्ति
Dr.Alpa Amin
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
मिलन
Anamika Singh
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
बहुत बुरा लगेगा दोस्त
gurudeenverma198
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
मां
Anjana Jain
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
Ravi Prakash
धन्य है पिता
Anil Kumar
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...