#1 Trending Author

गीत- हैँ उलझते आज मेरे गीत से

गीत- हैँ उलझते आज मेरे गीत से
■■■■■■■■■■■■■
हैँ उलझते आज मेरे गीत से
ये तेरे अंदाज दिल की भीत से
॰॰॰
तूँ जवाँ तेरी जवाँ मुस्कान है
इन गुलोँ की तुमसे ही पहचान है
पर तुझे मैँ छू नहीँ सकता कभी
जाने किसकी ऐ सनम तूँ जान है
मैँ बँधा हूँ आज उनकी प्रीत से-
हैँ उलझते आज मेरे गीत से
ये तेरे अंदाज दिल की भीत से
॰॰॰
तूँ रहे दिल की मेरे तस्वीर मेँ
जाने तुम किसकी लिखी तकदीर मेँ
वक्त मेरे आशिकी का खो गया
अब न आँखेँ डूबतीँ हैँ नीर मेँ
प्यार मत करना तूँ ऐसे मीत से-
हैँ उलझते आज मेरे गीत से
ये तेरे अंदाज दिल की भीत से
॰॰॰
जी करे तेरी अदा को चूम लूँ
और जुल्फोँ की घटा मेँ झूम लूँ
पर न जाने बात जँचती ये नहीँ
मैँ तेरी बाँहोँ मेँ दुनिया घूम लूँ
हार ही जायेँगे ऐसी जीत से-
हैँ उलझते आज मेरे गीत से
ये तेरे अंदाज दिल की भीत से

– आकाश महेशपुरी

161 Views
You may also like:
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
श्रृंगार
Alok Saxena
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
ख्वाब
Swami Ganganiya
An abeyance
Aditya Prakash
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्द।
Taj Mohammad
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H.
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
बचपन
Anamika Singh
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...