Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 14, 2022 · 1 min read

गीत – मुरझाने से क्यों घबराना

गीत….

मुरझाने से क्यों घबराना,
जब बागों में फिर है आना।
रूप मिले चाहे जो भी पर,
गीत हमें यह फिर है गाना।।

यह परिवर्तन ही है शाश्वत,
कौन अछूता इससे जग में।
सब हैं इस धरती पर राही,
सबको चलते रहना मग में।।
आते ही हो जाता अंकित,
कब किसको कैसे है जाना।
मुरझाने से क्यों घबराना,
जब बागों में फिर है आना।।

भूल गये दुनियां में आकर,
जाने कितनी बदली काया।
मस्त हुए अपने यौवन पर,
ढूँढ़ रहे बस दर- दर माया।।
रात- दिवस बढ़ती बेचैनी,
भूल गये हैं हम मुस्काना।
मुरझाने से क्यों घबराना,
जब बागों में फिर है आना।

साथ हमारा तब भी होगा,
जब होंगे हम दूर यहाँ से।
तुमसे हम आयेंगे मिलने,
लेकर कोई दृश्य वहाँ से।।
संकेतों की भाषा पढ़ना,
और इसे सबको बतलाना।
मुरझाने से क्यों घबराना,
जब बागों में फिर है आना।।

मुरझाने से क्यों घबराना,
जब बागों में फिर है आना।
रूप मिले चाहे जो भी पर,
गीत हमें यह फिर है गाना।।

डाॅ. राजेन्द्र सिंह ‘राही’
(बस्ती उ. प्र.)

117 Views
You may also like:
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
* तेरी चाहत बन जाऊंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फूल की महक
DESH RAJ
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
'इरशाद'
Godambari Negi
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम मुझे
Dr fauzia Naseem shad
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️न जाने वो कौन से गुनाहों की सज़ा दे रहा...
Vaishnavi Gupta
ऐ काश, ऐसा हो।
Taj Mohammad
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
अशांत मन
Mahender Singh Hans
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐बोधाद्वैते एकता भवति प्रेमाद्वैते अभिन्नता भवति च💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नई जिंदगानी
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
Loading...